हरितालिका तीज की पूजा सूर्यास्त के बाद करनी चाहिए

इस दिन भगवान शंकर माता पार्वती और गणेश जी की काली मिट्टी से मूर्ति बनाई जाती है

पूजा स्थल को अच्छे से साफ करके फूलो से सजाए

पूजा स्थल को अच्छे से साफ करके फूलो से सजाए

अब एक साफ चौकी पर केले के पत्ते रखे

अब एक साफ चौकी पर केले के पत्ते रखे

अब सभी भगवानो को चौकी पर विराजमान करे

अब सभी भगवानो को चौकी पर विराजमान करे

सभी की पूजा करें व माता पार्वती को सुहाग की चीजे चढाएं

अगले दिन सभी चीजे ब्रहामण को दान मे दें

अगले दिन सभी चीजे ब्रहामण को दान मे दें

अगले दिन माता पार्वती को सिंदूर चढाकर मीठा खिलाकर व्रत खोलें

अगले दिन माता पार्वती को सिंदूर चढाकर मीठा खिलाकर व्रत खोलें