भारतीय शास्त्रो मे अन्न को बहुत ज्यादा महत्व दिया जाता है। अन्न को भगवान माना जाता है। वैसे भी खाना या अन्न हमारे जीने की मूलभूत जरूरत है। हमारे शास्त्रो मे अन्न को लेकर काफी नियम और मान्यताएं है। खाना बनाने वाली स्त्री को हमेशा खुश मन से ही खाना बनाना चाहिए तभी वह खाना खाने वालो के तन को लगता है। रसोई घर को हमेशा साफ सुथरा रखना चाहिए। भोजन नहा धोकर साफ कपड़े पहन कर और अन्न देवता को नमस्कार करके ही बनाना शुरू करना चाहिए।

आटे को कभी भी जरूरत से ज्यादा नही गूंदना चाहिए क्योकि बचे हुए आटे मे नकारात्मक शक्तियो का वास माना जाता है। आटा गूंथने के बाद हमेशा उसमे अपनी अंगूलियो के निशान बना देने चाहिए, और पहली रोटी हमेशा गाय के नाम की बनानी चाहिए।

आटे को गूंथते समय उसमे नमक तो सभी मिलाते है लेकि यदि आपने नमक के साथ साथ थोडा सा घी और शक्कर भी मिला दिया तो आपकी धन संबंधी सभी परेशानियाँ हमेशा के लिए दूर हो जाएंगी।