अक्सर हम अपने घर में दादी-नानी से कहते हुए सुनते हैं कि सावन के महीने में कढ़ी नहीं खाना चाहिए। लेकिन क्या आपको इसके पीछे छिपे कारण के बारे में पता है? अगर आप इसका सही जवाब जानना चाहते हैं तो इस लेख को जरूर पढ़ें। आज हम इसी टॉपिक पर बात करने वाले हैं। यहीं नहीं बल्कि हम इस बात पर भी चर्चा करेंगे कि इस पावन महीने में किन-किन चीजों को खाने से मनाही की गई है।

सावन में कढ़ी खाना इसलिए वर्जित है क्योंकि इन दिनों दही या दही से बनी रेसिपी को पचाने में काफी दिक्कत होती है। इसलिए आयुर्वेद में इन्हें खाने से मना किया जाता है। इस मौसम में पाचन क्रिया बड़ी ही धीमी गति से चलती रहती है। ऐसा करने से आपको पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

यही नहीं बल्कि इस महीने में दही के साथ दूध से बनी किसी भी चीजों का सेवन भी नहीं करना चाहिए। इसके लिए बताया जाता है कि भगवान शिव को सावन के महीने में कच्चा दूध अर्पित किया जाता है। तो इसे पीना नहीं चाहिए। वहीं वैज्ञानिकों के हिसाब से इस महीने में अनचाही घास उगने लगती हैं, जिसमें खतरनाक कीड़े मकौड़े रहत हैं, जिसे गाय-भैंसे चरती हैं। तो इनका असर उनके दूध पर भी पड़ता है। अगर आप इसे कच्चा पीते हैं तो आपको हेल्थ से जुड़ी कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।