कहते हैं कि शनिदेव जिस पर प्रसन्न हो जाएं उसकी झोली भर देते हैं लेकिन शनिदेव की नाराजगी इंसान की परेशानियों का सबसे बड़ा कारण बन जाता है। ज्योतिष के अनुसार, शनि देव को अपना राशि चक्र पूरा करने में करीब 30 साल लग जाते हैं। वर्तमान में शनि अपनी खुद की राशि मकर में विराजमान हैं अपनी स्वयं की राशि में अक्टूबर महीने तक विराजमान रहेंगे।

लव राशि वालों के लिए यह खुश भरी खबर है कि शनि के वक्री स्थिति में होने से इन राशि वालों को लाभ मिलने वाला है। इसकी वजह से ऐसे जातकों के करियर में तरक्की के नए अवसर मिलेंगे इसके साथ ही उनकी अटके हुए काम भी पूरे होंगे। वहीं धनु राशि वालों के लिए भी अच्छा संकेत है कि शनि वक्री स्थिति में होने से उन्हें बेहद फायदा होने वाला है।

अक्टूबर में उनकी आर्थिक परेशानियां उनसे कोसों दूर भाग जाएंगे साथ ही रुका हुआ धन भी मिल जाएगा। मीन राशि वालों के लिए भी शनि की वक्र स्थिति बेहद लाभकारी साबित होने वाली है। अक्टूबर में उनकी आर्थिक स्थिति भी कहीं अब तक सुधर सकती है इसके साथ ही उनके मान-सम्मान में बढ़ोतरी होगी।