Shardiye Navratri 2022: इस साल शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर से शुरू होने वाले हैं और 5 अक्टूबर तक समाप्त होंगे। ऐसे में मां दुर्गा की पूजा और अर्चना के साथ ही कलश स्थापना भी की जाती है, जिसके लिए शुभ मुहूर्त जानना बेहद जरूरी होता है। इस बार माता रानी हाथी पर सवार होकर आ रही हैं और यह भारी बारिश का संकेत बताया जा रहा है।

कलश स्थापना मुहूर्त

कलश स्थापना का योग 8:06 से शुक्ल युग में बन रहा है। कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6:11 से 7:51 तक बताया जा रहा है। इसके साथ ही घट स्थापना सुबह 11:48 से 12 बस कर 36 मिनट तक रहने वाला है।

कलश स्थापना कैसे करें

माता रानी के कलश स्थापना में माता की चौकी उत्तर पूर्व दिशा में स्थापित की जाती है और फिर गंगाजल छिड़क कर उसे पवित्र किया जाता है। इसके बाद लाल कपड़े को चढ़ाकर मां दुर्गा की मूर्ति को स्थापित किया था है। कलश स्थापना के लिए एक मिट्टी का बना हुआ बर्तन लेना जरूरी होता है, जिसमें नीचे की परत में मिट्टी डाली जाती है और फिर इसमें आम के पत्ते, सुपारी, हल्दी की गांठ, दूब और कुछ सिक्के डालकर ऊपर आम के पत्तों पर नारियल को कपड़े से लपेट कर रखा जाता है। ‌