Neelam Gemstone Benefits: रत्नों की संख्या नौ होती है और ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हर रत्न का अपना अलग प्रभाव होता है। हर राशि के हिसाब से अलग-अलग रत्न होता है। आज हम बता रहे हैं नीलम रत्न के बारे में। शनि की स्थिति ठीक करने के लिए अक्सर नीलम पहनने की सलाह दी जाती है। नीलम धारण करने से पहले काफी बातों का ध्यान देना चाहिए। चलिए जानते हैं नीलम धारण की विधि और उसके लाभ।

मकर और कुंभ राशि के जातक नीलम रत्न धारण कर सकते हैं साथ ही वृष राशि, मिथुन राशि, कन्या राशि, तुला राशि के लोग भी नीलम पहन सकते हैं। ध्यान रहे नीलम के साथ मूंगा, माणिक्य और मोती नहीं पहनना चाहिए।

नीलम धारण करने के लाभ की बात करें तो ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, व्यक्ति को आर्थिक लाभ होता है। मानसिक समस्याएं दूर होती हैं अंदर से डर, घबराहट खत्म होने लगता है। व्यक्ति के काम में में निखार आता है और उसके सोचने की क्षमता का विकास होता है। नीलम को शनिवार को मध्यमा उंगली में धारण करना चाहिए। नीलम कम से कम सवा 6 सवा 7 रत्नी का पंचधातु या चांदी के धातु में होना चाहिए।