Kajari Teej 2022: हिन्दू धर्म में कजरी तीज का खास महत्व है। इस दिन महिलायें निर्जला व्रत रखती हैं और मां पार्वती और नीमड़ी माता की पूजा करती हैं। आपको बता दें कजरी तीज भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। इस साल कजरी तीज 14 अगस्त को मनाया जाएगा। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से कजरी तीज का महत्व और कजरी तीज की पूजा विधि के बारे में बता रहे हैं।

पति की लंबी आयु और अच्छे स्वास्थ्य के लिए कजरी तीज पर महिलायें निर्जला व्रत रखती हैं और मां पार्वती-भगवान शिव और नीमड़ी माता की पूजा करती हैं। इस साल 14 अगस्त दिन रविवार को कजरी तीज मनाया जाएगा।

कजरी तीज पर महिलायें सुबह स्नान करके साफ कपड़े पहनकर नीमड़ी माता का ध्यान करते हुए निर्जला व्रत शुरू करती हैं। पूजा के लिए एक मिट्टी का छोटा सा तालाब बनाकर उसमें कच्चा दूध या जल भरकर किनारे दिया जलाया जाता है। उसके किनारे नीम का पता या टहनी रखते हैं और पूजन सामग्री से भरा थाल रखते हैं और नीमड़ी माता की पूजा करते हैं। इसमें भी रात में चंद्रमा को अर्घ्य देकर पति के हाथ से पानी पीकर व्रत खोला जाता है फिर नीमड़ी माता को भोग लगाकर व्रत खोला जाता है।