गेहूं के आटे की रोटियां तो सबके घरों में बनती हैं कुछ लोग गेहूं पिसवाकर आटा इस्तेमाल करते हैं तो वहीं कुछ लोग बाजार से रेडीमेड आटा खरीदते हैं। बाहर के आटे में मिलावट होने के चांस ज्यादा रहते हैं जो हमे पता नहीं चल पाते। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने जा रहे हैं की आपके किचन में रखा आटा जिसकी आप रोटियां खाते हैं वो असली या नकली।

एक प्लेट में आटा ले और ऊपर से चुंबक घुमाये अगर उसमें मिलावट के लिए लोहे का बुरादा मिलाया गया होगा तो आटा चिपकने लगेगा।

एक गिलास पानी में एक चम्मच आटा डाले, आटा अगर मिलावटी होगा तो पानी के ऊपर चोकर, भूसी तैरने लगेगी।

एक चम्मच आटे में कुछ बूंदे नींबू की डाले अगर आटे में बुलबुला या झाग दिखे तो इसका मतलब है इसमें खड़िया या चॉक मिलाई गई है।

एक बर्तन में आटा लें उसमें थोड़ा सा हाइड्रोक्लोरिक एसिड मिलाए, अब अगर आपको कुछ छानने जैसी चीज नजर आए तो समझ लीजिए आपका आटा मिलावटी है।

इसके अलावा आटा गूथते वक्त वो गर्म सा हो जाता है और रोटियां फूली हुई बनती है तो आपका आटा असली है लेकिन अगर आटा गूथते वक्त ज्यादा पानी नहीं लगता और रोटियां एकदम सफेद हैं तो जानिए आटा नकली है।