Karwa Chauth Puja Samagri: पति की लंबी उम्र के लिए सुहागिन महिलायें करवा चौथ व्रत रखती हैं। सूर्योदय से चंद्रोदय तक चलने वाले इस व्रत में अन्न, जल का त्याग कर दिया जाता है। फिर चंद्रमा को अर्घ्य देकर व्रत का पारण किया जाता है। इस साल करवा चौथ व्रत 13 अक्टूबर को रखा जाएगा। व्रत के कुछ दिन पहले से भी महिलायें इसके लिए तैयारियां शुरू कर देती हैं। ऐसे में करवा की पूजा के लिए सब सामग्री का होना आवश्यक है जिसके बारे में हम आपको बता रहे हैं।

पूजन सामग्री:-

करवा चौथ की पूजा में लगने वाला समान है, पान, व्रत कथा की पुस्तक, मिट्‌टी या तांबे का टोटवाला करवा ढक्कन, कलश, चंदन, फूल, कच्चा दूध, दही, देसी घी, शहद, शक्कर का बूरा, मेहंदी, महावर, सिंदूर, कंघा, हल्दी, चावल, मिठाई, बिंदी, चुनरी, चूड़ी, छलनी, बिछुआ, छलनी, करवा माता की तस्वीर, दीपक, अगरबत्ती, कपूर, रोली, कुमकुम, मौली, अक्षत, 16 श्रृंगार का सामान, गेहूं, बाती (रूई)लकड़ी का आसन, दक्षिणा के पैसे, हलुआ, आठ पूरियों की अठावरी।

बता दें, इस बार 13 अक्टूबर 2022 को करवा चौथ का व्रत रखा जाएगा। करवा चौथ की पूजा का समय शाम 06.01 से रात 07 बजकर 15 मिनट तक है। उस दिन चांद करीब रात 08.19 मिनट पर निकलेगा।