EPFO: हर इंसान चाहता है की रिटायरमेंट के बाद उसे पेंशन का सहारा मिल सके। लेकिन कुछ बदलाव होने की वजह से पेंशन पाना इतना आसान नहीं रह गया है। ‌ सरकारी क्षेत्र हो या प्राइवेट दोनों में ही पेंशन पाने के लिए कुछ शर्तों का पालन करना पड़ता है। ईपीएफओ के नियमानुसार अगर कोई भी कर्मचारी 10 सालों तक किसी कंपनी में काम करता है तो वह पेंशन पाने के योग्य होता है। ‌

कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो प्रमोशन के चक्कर में एक के बाद एक नौकरियां बदलने में लगे रहते हैं लेकिन कभी-कभी बीच में नौकरी ना मिलने पर काफी लंबा गया खो जाता है जिसके बाद पीएफ में कटे अमाउंट बिजली कंपनी में काटे थे वह उन्हें मिलेंगे या डूब जाएंगे इसके बारे में जानते हैं।

कंपनी के एक कर्मचारी की सैलरी से 8.3% पैसा कट कर उसके पीएफ अकाउंट में चला जाता है, जो उसे रिटायरमेंट के बाद पेंशन को रुप में मिलता है। ऐसे ही वेतन से कटा पैसा बहुत सालों तक लगातार कटता रहता है। जो कर्मचारी के रिटायरमेंट के बाद उसके अकाउंट में हर महीने भेजा जाता है। ‌