Health Tips : अक्सर ऐसा होता है कि पकाने के बाद जब भी आटा बचता है तो हम उसे फ्रिज में रख देते हैं और अगले दिन इसका इस्तेमाल करते हैं. यहां तक ​​कि कई महिलाएं सुबह के काम को हल्का करने या ऑफिस जाने के लिए रात में ही आटा रख लेती हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि समय बचाने की आदत का आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ता है. जी हां.. कभी भी बासी आटे की रोटियां न बनाएं. ऐसा करना आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है. आइए यहां हम आपको बताते हैं कि बासी आटे की रोटियां खाने से क्या हो सकता है।

बासी रोटी का संबंध सूर्य और मंगल से है जहां ताजी रोटी में उर्जा देती है वहीं बासी रोटी नेगेटिवीटी आती है.बासी आटे का संबंध राहु से माना गया है. राहु मानसिक स्थिति को संतुलित नहीं रहने देता. जिससे घर में क्लेश होते हैं.हिंदू धार्मिक मान्यताओं और शास्त्रों के अनुसार फ्रिज में गूंथा आटा उस पिंड के समान माना गया है जो पिंड मृत्यु के बाद मृतात्मा के लिए रखे जाते हैं.

यदि आप आटा गूंथकर उसे फ्रिज में रख देते हैं तो वे भूत इस पिंड का भक्षण करने के लिए घर में आने शुरू हो जाते हैं, जो मृत्यु के बाद पिंड पाने से वंचित रह जाते हैं. ऐसे भूत और प्रेत फ्रिज में रखे इस पिंड से तृप्ति पाने का उपक्रम करते हैं.

रात के समय बचे हुए आटे के नुकसान: आटा को पानी के संपर्क में आते ही प्रयोग करना चाहिए. ऐसा इसलिए क्योंकि आटे में कई ऐसे केमिकल आते हैं जो सेहत के लिए बेहद हानिकारक माने जाते हैं.आटा गूंथ कर फ्रिज में रख दें तो फ्रिज की हानिकारक गैसें उसमें प्रवेश कर जाती हैं.इससे कई तरह की बीमारियां होने का खतरा भी बढ़ जाता है.

पेट की ख़राबी: गीले आटे में सामान्य गूँथे आटे की तुलना में किण्वन प्रक्रिया जल्दी शुरू हो जाती है, जिससे आटे में बैक्टीरिया पनपने लगते हैं जो स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इससे बनी रोटियां पेट खराब कर सकती हैं.

इम्यून सिस्टम होता है कमजोर- गेहूं एक मोटा अनाज होता है जिसकी रोटियां पेट में जाकर धीरे-धीरे पचने लगती हैं.ऐसे में कब्ज की समस्या वाले लोगों के लिए इसे पचाना मुश्किल हो जाता है. आटे की रोटियां खाने से आपका इम्यून सिस्टम भी कमजोर होने लगता है.इसलिए खाने से बचें.