Chanakya Niti: महान अर्थशास्‍त्री, कूटनीतिज्ञ और व्‍यवहारिक बातों के मार्गदर्शक आचार्य चाणक्‍य ने अपने नीति शास्‍त्र में जीवन को सरल बनाने के लिए हर पहलुओं को लेकर कई बातें बताई हैं। चाणक्‍य द्वारा कही गई बातें आज भी जन मानस में प्रचलित हैं। जिनपर चलकर आप आने वाली समस्याओं से बच सकते हैं। उन्होंने प्रेम संबंधों को लेकर भी अपने नीति शास्त्र में काफी कुछ कहा है।

-आचार्य चाणक्य का मानना था किसी भी संबंध में एक दूसरे का अनादर नहीं करना चाहिए बल्कि अपने पार्टनर का सम्मान करना बेहद जरूरी है। ऐसे में अपने पार्टनर के सम्मान को हमेशा बनाए रखना चाहिए। वरना रिश्ता कमजोर पड़ने लगता है।

-कभी भी किसी भी बात को लेकर अपने पार्टनर के ऊपर शक नहीं करना चाहिए। शक करने से अच्छे से अच्छा रिश्ता भी धीरे-धीरे कमजोर पड़ने लगता है।

-चाणक्य के अनुसार, अपने संबंध को मजबूत बनाए रखने के लिए एक दूसरे के ऊपर भरोसा करना बेहद आवश्यक है। अपने पार्टनर को संबंध में बांधने के बजाय आजादी देनी चाहिए। ऐसा करने से रिश्ता में भरोसा बढ़ता है।

-आचार्य चाणक्य के मुताबिक प्रेम संबंध में कभी भी अहंकार नहीं होना चाहिए। घमंड दीमक की तरह होता है जो धीरे-धीरे रिश्ते को खा जाता है। फिर आगे चलकर रिश्ते में दूरी आ जाती है।