Somvar Vrat: ये तो सभी जानते हैं कि भगवान शिव को प्रसन्न करना बेहद आसान है। उनकी पूजा आराधना करने से उनका आशीर्वाद जल्दी मिल जाता है। लेकिन अगर हम अपनी आस्था में थोड़ी भी गलती कर दें तो भोलेनाथ को गुस्सा भी उतनी ही
जल्दी आता है। उन्हें मनाने के लिए सोमवार का व्रत करना सबसे सरल और सबसे अच्छा उपाय माना जाता है। व्रत और पूजा करते समय छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखना बहुत ज़रूरी है। क्योंकि इन गलतियों के कारण आपको इस व्रत का फल प्राप्त नहीं होगा।

सोमवार के दिन भगवान शिव का व्रत रखते समय सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लेना चाहिएय़। उसके बाद घर में या किसी मंदिर में जाकर शिवलिंग पर जलाभिषेक करना चाहिए। इसके बाद भगवान शिव और माता पार्वती की श्रद्धा भाव से पूजा अर्चना करें और व्रत कथा अवश्य पढ़े या सुनें। व्रत रखते समय कुछ बातों का ध्यान रखें। भगवान शिव की पूजा में दूध से अभिषेक करते समय कभी भी तांबे के कलश का इस्तेमाल न करें। साथ ही शिवलिंग पर दूध, दही, शहद चढ़ाने के बाद जल ज़रूर चढ़ाएं। कहा जाता है कि ऐसा करने से जलाभिषेक पूर्ण हो जाता है।

इन बात का भी खास खयाल रखें कि शिवलिंग पर हमेशा चंदन का ही तिलक लगाएं। कभी भी रोली और सिंदूर का उपयोग न करें। यही नहीं बल्कि शिवलिंग की कभी भी पूरी परिक्रमा नहीं करनी चाहिए। जिस स्थान से दूध बाहर निकलता है वहां रुक जाएं और वापस घूम जाएं।